गुरुवार, 10 मार्च 2011

...बसंत बहुत चुभा तभी










एक बार तुमने पूछा था
क्या बसंत देखा है कही
तुमसे मिलकर खेतो के रस्ते
एक बार हस्ते हस्ते
घर को आयी थी मै 
बसंत दिखा था तभी
तुमसे बिछुड़ के पगडंडियों  से
न जाने कहाँ   
चली थी मै
कटीली झाड़ी ने दामन थामा था मेरा 
बसंत  बहुत चुभा तभी 

11 टिप्‍पणियां:

  1. कटीली झाड़ी ने दामन थामा था मेरा
    बसंत बहुत चुभा तभी
    सुन्दर अभिव्यक्ति ,बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुमसे बिछुड़ के पगडंडियों से
    न जाने कहाँ
    चली थी मै
    कटीली झाड़ी ने दामन थामा था मेरा
    बसंत बहुत चुभा तभी
    .
    वाह पवन जी कमल का लिखते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक बार हस्ते हस्ते
    घर को आयी थी मै
    .
    लगता है भाभी जी ने लिखा है. आप से भी एक क़दम आगे.
    .
    अब तो चाए पक्की है ना

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा प्रयास है .
    मासूम साहब जब आइयेगा तो इमरती लेते आइयेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सब ऋतुओ से न्यारा बसंत . सारे जग का प्यारा बसंत

    कोमल पत्तों से सज आता ,फूलों का निज हार सजाता

    प्रेमी जन के मन को भाता कण कण में मधु रस भर जाता

    उत्तर देंहटाएं
  6. मासूम भैया
    आपने मेरी कविता को पवन जी समझा
    मेरे लिए इससे बड़ा कम्प्लिमेंट और क्या हो सकता है
    चाय तो पक्की है ही
    साथ में सुजानगंज का एटम बम्म भी
    स्पेशल मंगवा कर रख लेगे

    उत्तर देंहटाएं
  7. पलाश जी मुंबई की तो अफलातून मशहूर है, जौनपुर से आया तो अवश्य लूँगा.
    .
    किरण @ भाभी जी चाए के बाद फ़ौरन एटम बम्म से सत्कार. बाप रे लगता है कोई बहुत बड़ी गलती हो गयी है. हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  8. बड़े भाई आशीष राय जी ने कहा है (उनकी टिप्पणी पेस्ट नही हो रही थी )
    "बसंत में परमाणु बम और चाय से काम थोड़े चलेगा , गुझिया और ठंडाई भी होनी चहिये ",

    उत्तर देंहटाएं
  9. मीनू तो तैयार हो गया , अब दिन तारीख और जगह भी जल्दी तय कर ली जाय ।
    अर मासूम जी बस खाली हाथ न आइयेगा , चाहे बम्बई से आये या जौनपुर से........

    उत्तर देंहटाएं