शनिवार, 3 नवंबर 2012

यही जानता हूँ यही जानता था


                          ना   ही   तुम्हे   कल   तो  मै  जानता  था 
                          ना  ही   तुम्हे   कल   तो   पहचानता   था 
                          मिले कब  थे कैसे और किस राह पर  हम
                          न  अब   जानता  हूँ  न  तब  जानता  था 

                         सूरत   तुम्हारी  ही   भाती  है  मन  को 
                         अदाएं तुम्हारी  लुभाती है     मन    को   
                         पहली  नजर  में  था   कायल  मै   तेरा 
                         यही    जानता    हूँ    यही   जानता   था 

                        खुदा  की  थी  मर्जी   जो  उसने  मिलाया 
                        मोहब्बत   में   तेरे   वो   जीना  सिखाया 
                        था किस्मत में  लिखा खुदा  ने तुम्ही को
                        यही   जानता    था    यही   जानता   हूँ 

1 टिप्पणी:

  1. महोदय जी,
    मैंने हिंदी प्रेमियों के लिये एक मंच नाम से साझा मंच प्रारम्भ किया है। जिस में हिंदी भाषा से संबन्धित प्रत्येक रचनाकार को जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। हम चाहते हैं कि इस मंच पर प्रत्येक हिंदी रचनाकार शामिल हो। यह समूह मैंने इस लिये भी बनाया है कि हर रचनाकार एक दूसरे से अपनी बात कह सके।
    महोदय जी, जो भी इस समूह में शामिल होंगे, उन्हे प्रत्येक मेल उनकी ईमेल पर प्राप्त होगी। कोई भी सदस्य सामूहिक ईमेल भेज सकता है। मुझे लगता है कि हम सब हिंदी प्रेमियों के लिये इस से अच्छा मंच कोई दूसरा न होगा। इस समूह को सबसक्राइब करने के लिये अपनी ईमेल से ekmanch-subscribe@yahoogroups.com पर आवेदन भेजना होगा। इस प्रकार इस समूह में आप शामिल हो जायेगे।
    महोदय जी, आप का संबंध प्रत्येक रचनाकार से है। अगर आप चाहें तो मेरे इस मिशन को कामयाब बना सकते हैं। मैं जानता हूं कि आप हिंदी की बहुत सेवा कर रहे हैं।
    जो महान ब्लौग आप ने हम सब को दिया है ये वास्तव में प्रशंसनीय कार्य है।
    महोदय जी, मुझे पुरा विश्वास है कि आप मेरे इस कार्य को संपूर्ण करने में मेरी मदद करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं