मंगलवार, 11 जून 2013

ओ मेरी "परछाई"

घर से दूर .....
अपनों से दूर.....
"तुम" से दूर ....होकर
मैंने ये जाना है कि ........ 
जीना कितना कठिन है .....
और मरना कितना आसान ..... 

ओ मेरी "परछाई"....
तेरे बिना मै भटक रहा हूँ....
प्रेत बनकर अंधेरी 
गलियों में ......




3 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं


  2. हमी थे वो लोग अभागे
    परछाई के पीछे भागे
    ये जिंदगी तेरी गलियों में
    दिन को सोये रात को जागे
    आँख मिचौनी मौत खेलती
    ये, परछाई , कभी तुम पीछे कभीआगे हम .

    उत्तर देंहटाएं