शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2017

चुनाव २०१७



अबकी बारी सोच समझ कर
मित्रों बैलेट पर बटन दबाओ
सोये रहे जो आज के दिन भी
फिर तो पाँच साल पछताओगे

है देश बचाना अब तो जानो
वोट की ताकत को पहचानो
ना घुसे सभा में पापी दरिन्दे
आज ही ये निश्चित कर डालो

नही है दिन ये मौज करने को
घर मे बस खाली पडे रहने को
मत का मूल्य सबको समझाओ
मत केन्द्र तक मिलकर आओ

जाति धर्म का ध्यान ना धरना
सही व्यक्ति को ही आगे करना
देश का जिम्मा अब तो उठाओ
चुनाव को राष्ट्रीय पर्व बनाओ

लगा उंगली पर नीला निशान
बनाना है अपना देश महान
बदल देंगे राजनीति की भाषा
नेताओं को ये संदेश सुनाओ

अबकी बारी सोच समझ कर
मित्रों बैलेट पर बटन दबाओ 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें